Back

ⓘ पराशर ऋषि. पराशर एक मन्त्रद्रष्टा ऋषि, शास्त्रवेत्ता, ब्रह्मज्ञानी एवं स्मृतिकार छी। ई महर्षि वसिष्ठ कऽ पौत्र, गोत्रप्रवर्तक, वैदिक सूक्तोक द्रष्टा आ ग्रंथकार स ..




पराशर ऋषि
                                     

ⓘ पराशर ऋषि

पराशर एक मन्त्रद्रष्टा ऋषि, शास्त्रवेत्ता, ब्रह्मज्ञानी एवं स्मृतिकार छी। ई महर्षि वसिष्ठ कऽ पौत्र, गोत्रप्रवर्तक, वैदिक सूक्तोक द्रष्टा आ ग्रंथकार सेहो छी। पराशर शर-शय्या पर पडल भीष्म सँ मिलैल गेछल । परीक्षित् कऽ प्रायोपवेश समय उपस्थित कयो ऋषि-मुनियोसभमे एक छल । ओ छब्बीस अम द्वापर कऽ व्यास छल । जनमेजय कऽ सर्पयज्ञमे उपस्थित छल ।

                                     

1. पराशर शब्द कऽ अर्थ

पराशर शब्द कऽ अर्थ छी - पराशृणाति पापानीति पराशरः अर्थात् जे दर्शन-स्मरण करैसँ ही समस्त पापो कऽ नाश करैत अछि, ओहि पराशर छी।

परासुः स यतस्तेन वशिष्ठः स्थापितो मुनिः । गर्भस्थेन ततो लोके पराशर इति स्मृतः ॥ महाभारतम् १। १७९। ३ परासोराशासनमवस्थानं येन स पराशरः । आङ्पूर्ब्बाच्छासतेर्डरन् । इति नीलकण्ठः ॥
                                     

2. बाल्य आ शिक्षा

पराशर कऽ पिताक नाम शक्तिमुनि छल आ उनकर माताक नाम अद्यश्यन्ती छल। शक्तिमुनि वसिष्ठऋषिक पुत्र आ वेदव्यास कऽ पितामह छल । ई आधापर पराशर वसिष्ठ कऽ पौत्र छल ।

सुतं त्वजनयच्छक्त्रेरदृश्यन्ती पराशरम् । काली पराशरात् जज्ञे कृष्णद्वैपायनं मुनिम् ॥ इत्यग्निपुराणम् ॥

शक्तिमुनिक विवाह तपस्वी वैश्य चित्रमुख के कन्या अदृश्यन्तीसँ भेछल । माताके गर्भ मे रहैत काल पराशर ने पिता कऽ मुँहसँ ब्रह्माण्ड पुराण सुनल छल, कालान्तरमे ओ प्रसिद्ध जितेन्द्रिय मुनि एवं युधिष्ठिर कऽ सभासद जातुकर्ण्य कऽ ओकर उपदेश केने छल । पराशर बाष्कल कऽ शिष्य छल । ऋषि बाष्कल ऋग्वेद के आचार्य थे। याज्ञवल्क्य, पराशर, बोध्य आ अग्निमाढक एकर शिष्य छल । बाष्कल ऋग्वेद कऽ एक शाखा के चार विभाग करके अपन ई शिष्यो कऽ पढाने छल । पराशर याज्ञवल्क्य कऽ सेहो शिष्य छल ।