Back

योगमाया न्यौपाने - नेपालक महिलासभ. योगमाया न्यौपाने नेपालक भोजपुर जिलामें स्थित एक धार्मिक नेता, महिला अधिकार कार्यकर्ता आओर कवियित्री छल। योगमायाके नेपालक अ ..



योगमाया न्यौपाने
                                     

योगमाया न्यौपाने

योगमाया न्यौपाने नेपालक भोजपुर जिलामें स्थित एक धार्मिक नेता, महिला अधिकार कार्यकर्ता आओर कवियित्री छल। योगमायाके नेपालक अग्रणी महिला कविसभमें सँ एकटा प्रसिद्ध हस्तीके रुपमे पहिचानल जाइत अछि, जेकर कवितासभक एकमात्र प्रकाशित पुस्तक, सर्वर्था योगबनीमे हुनकर सभसँ उल्लेखनीय योगदान मानल् जाइत अछि।

योगमायाक कवितासभ ओ समय के दौरान रचना कएल गेल अछि जखन नेपाल पर राणा शासनक शासन छल आओर जखन भारत ब्रिटिश राज के अधीनमे छल। ओ समयक सांस्कृतिक आओर राजनीतिक उत्पीडनक विशेषता हुनकर शैली विशिष्ट रूपसँ मूल आओर साहसीक रूपसँ स्पष्ट छल। एक धार्मिक नेता के रूपमे हिन्दू धार्मिक सन्दर्भ के उपर एकटा महत्वपूर्ण ध्यान केन्द्रित करए के बावजूद भी, हुनकर कवितासभ आओर सक्रियताक विषय क्षेत्रमें महिला आओर अल्पसंख्यक अधिकारसभ पर सेहो बहुत इर्दगिर्द घूमैत अछि, जे ओ समयके दौरान बहुत लोकसभसँ अपील करैत छल। ओही घटनाक पश्चात के वर्षसभमें, हुनकर गतिविधिसभ पर सरकारद्वारा बड भारी निगरानी रखल् गेल आओर राणा शासकसभक कमान के अन्तर्गत अधिकारीसभद्वारा हुनकर कार्यसभ पर प्रतिबन्ध लगाओल गेल आओर हुनकर ओ उत्पीडन के बावजूद भी, ओ नेपालमें बसोबास करैत रहि गेल आओर अपन अन्तिम दिन बितेवाक लेल पूर्वी नेपालमें हुनकर जन्मस्थान के नजदिक उल्लेखनीय हि रहल। अओर एकटा बात एहो भी मानल जाइय जे कि योगमाया नेपाली महिलासभक पहिल सङ्गठन, १९१८ में महिलासभक अधिकारसभक लेल नारी समिति के स्थापना केनए छल, जेकरा १९२० में नेपालमें सती प्रथाक उन्मूलन के पाछा मुख्य लोबी सेहो मानल जाइत छल।

योगमायाक सक्रियता के पश्चात ओ त्याग के घोषणा करए लगल आओर नेपाल फिर्ता भऽ गेल। अधिकारीसभक साथ मिलि के योगमाया आओर हुनकर समर्थकसभक समूह के प्रति कठोर व्यवहार, आओर साथ ही, शासनक लेल हुनका क्रूर आओर भ्रष्ट दृष्टिकोण के सुधारवाक लेल तैयार नै भेल, योगमाया आओर हुनकर ६७ गोट शिष्यसभ जानि बूझि के नेपाली इतिहासमें सभसँ पैग सामूहिक आत्महत्या जल-समाधि केलैन। १९४१ में अरुण नदीमें । जनवरी २०१६ में, नेपाल सरकार हुनकर योगदान के मान्यता दैत एकटा हुलाक टिकट जारी केनए छल।

                                     

1. प्रारम्भिक जीवन आओर परिवार १८६७-१८७२

योगमायाक जन्म १८६७ में नेपालक नेपालेडाँडा के मझुवाबेशीमें एकटा ब्राह्मण परिवारमें भेल छल। ओ अपन माता-पिता के तीन गोटे सन्तानसभमें सभसँ पैग सन्तान आओर, पिता श्रीलाल उपाध्याय न्यौपाने आओर माता चन्द्रकला न्यौपाने के एकलौटी बेटी छल।

ओ समय के प्रचलित ब्राह्मण रीति-रिवाजसभक अनुसार, योगमायाक विवाह हुनकर माता-पिता मनोरथ कोइराला नाम के लड्कासँ करि देने छल, जखन हुनकर विवाह भेल तखन ओ ७ वरिष कऽ छल। मुद्दा, अपन ससुराल वालासभक साथ बसोबास करै के समयमें, हुनका घरमें रहनाए में मुश्किल समय के सामना करै पडल्, कियाकि ई मानल जाइत अछि कि ओ घरेलु शोषणक शिकार भऽ गेल छल। अपन मध्य-किशोरावस्थाक आसपास, योगमाया अपमानजनक रुपसँ घरसँ भागए आओर अपन नैहर फिर्ता होए के निर्णय केलक। मुद्दा, योगमायाक हुनकर पिता आओर हुनकर समुदायद्वारा हुनका घरमें आसानीसँ स्वागत नै कएल गेल छल, आओर हुनका एकर बदलामें ससुराल घुमि जाइ के बात पर जोर केलक। मुद्दा ससुरालवाला हुनका अपन घरमें फेरसँ आबै सँ अस्वीकार करि देलक, हुनकर पिता संकोच मानि के हुनका अपन घर पर रखवाक निर्णय केलक।

योगमायाक पति मनोरथ कोईराला के भाग्य के बारे में दुइटा विपरीत धारणासभ अछि। लोकप्रिय रूपसँ वर्णित संस्करणसभमें १० वर्षक आयुमें हुनकर मृत्युक उल्लेख कएल गेछल आओर योगमायाक बाल विधवा होए के कारण, हुनकर विधवा स्थिति के हुनकर ससुराल वालासभक दुर्व्यवहार के कारण मानल् गेल अछि। मुद्दा, योगमायाक आस-पास के किछ आधुनिक साहित्यमें कहल् गेल अछि जे ओ वास्तवमें कखनो भी बाल विधवा नै छल आओर हुनकर पति योगमाया के घरसँ चलि गेलाक के पश्चात दोसर महिलासँ फेरसँ विवाह करि लेने छल।

                                     

2. असाममें प्रवास आओर पुनः विवाह १८७२-१९१७

ओ समय के उच्च रूढिवादी आओर दमनकारी ब्राह्मण समाजमें एक गोटे एकल नारी होए के बावजूद भी, अपन मध्य-किशोरावस्थामें, योगमाया चोरीछिप्पे कँडेल जाती के लड्का एक गोटे पडोसी ब्राह्मण लड्का के साथ एकटा रिश्ता विकसित केलक। जहिना कि पुनर्विवाह वा विधवा विवाह हिन्दू समाजमें सकारात्मक रूपसँ सहि नै मानल जाइत अछि, ओ कारणसँ योगमाया भोजपुरमें अपन घरसँ भागि जाए के निर्णय केलक आओर ओ असाममें अपन प्रेमीसँ विवाह करि लेलक। एक दशकसँ अधिक समयधरि एक साथ रहए के पश्चात भी, ई मानल जाइत अछि जे योगमाया अपन दोसर पतिसँ अलग भऽ गेल आओर अपन बेटी के सँगे चलि गेल। किछ स्रोत हुनकर दोसर पति के मृत्यु भऽ गेल सेहो उल्लेख करैत अछि, जखन कि अन्य दुइटा के उल्लेख वास्तवमें बढियाँ शब्दसभसँ अलग करैत अछि। किछ साहित्यमें हुनकर दोसर पति के निधन के पश्चात डोटेल उपनाम भेल एक गोटे तेसर पुरुषसँ विवाह करवाक सेहो बात के उल्लेख अछि। इतिहासकारसभ के एही सम्बन्धमें विवाद अछि जे की योगमाया अपन दुइटा बेटीसभ वा एकटा मात्र के जन्म देलक, मुद्दा हुनकर बेटी के रूपमें नयननकला न्यौपाने के अस्तित्व दर्ज कएल गेल अछि।

                                     

3. त्याग आओर नेपालमें फिर्ता १९१७

ई निर्णय भऽ गेला के पश्चात हुनकर पासमें पर्याप्त विवाह आओर सांसारिक तरिकासभ अछि, योगमाया त्याग के जीवन के अपनावै के आओर अपन शेष जीवन के एकटा तपस्वी के रूपमें जिवै के निर्णय केलक। तखन ओ समयमें हिन्दू समाजमें पुरुषसभक लेल तपस्वी बनि जेनाए एकदम आम छल, मुद्दा महिलासभक लेल एहन होनाए बहुत ही कम छल। एकर पश्चात योगमाया अपन बेटी नयनकला के साथ अपन गाम मझुवाबेसी स्थित अपन गाम नेपाल चलि आएल आओर बेटी नयनकला अपन भाई अग्निधर न्यौपाने आओर भाभी गङ्गा के सौंप देलक। एही लेल ओ अपन सभ जिम्मेदारीसभ छोडि देलक आओर एकटा तपस्वी के जीवन पूरा अपनौलक। ई अवधि के दौरान योगमाया अपन धार्मिक कवितासभक रचना शुरू केलक। हुनकर पहिल विषयसभक विश्लेषण करि के विद्वानसभ के ई माननाए अछि जे योगमाया सुधारवादी हिन्दू नेता दयानन्द सरस्वती के सिद्धान्तसभसँ काफी प्रभावित छल, जे योगमाया के असाममें रहए पर पूरा भारतमें अपार लोकप्रियता हासिल केनेए छल।

                                     

4. नेपालक भीतरमें तपस्वी यात्रा १९१७-१९१८

पश्चातमें योगमाया नेपाल के विभिन्न भागसभमें अपन तपस्वी यात्रा शुरू केलक। अपन यात्रा के दौरान ओ अनेकौं नामीगामी धर्मगुरुसभ के सम्पर्कमें आएल, जाहिमें स्वर्गद्वारी महाप्रभु अभयानन्द द्वितीय सेहो शामिल अछि, जे हुनकर भक्ति के लेल बहुत सराहना करैत अछि आओर एहिना हुनका योगमनी आध्यात्मिक शिक्षा के साथ जोशमणि सन्त परम्परा के अन्तर्गत मार्गदर्शन करैत अछि। अपन यात्रा के पश्चात, योगमाया अपन गामघर फिर्ता भऽ के अपन ध्यान साधना के जोरदार अभ्यास करै के निर्णय केलक।

                                     

5. मझुवाबेसी फिर्ता, सक्रियता, लोकप्रियता आओर स्थानीय सामन्ती प्रभुसभक विरोध १९१८-१९३०

योगमाया अपन साधना के दौरान किछ अत्यन्त कठिन ध्यान तरिकासभक अभ्यास केलक, जाहिमें ग्रीष्मकाल के दौरान अग्नि के निकटमें दिनभरि ध्यान करनाए आओर फेर ठण्डीमें गुफासभक भितर बिना शरीपर कपडा पहिरनाए शामिल छल। कखनो-कखनो ओ उपवास करैत समय सेहो ध्यान लगावैत छल आओर बहुतरास हफ्तासभ धरि केवल पानि पिवैत छल। अन्य समयसभमें, ओ लोगसभ आओर अपन कर-कुटुम्सबभक साथ मिलैत छल जाहि समयमें ओ अपन कवितासभ सुनावैत छल। मझुवाबेसी के लोगसभक बारेमें किछ भी सुनावैत वा जानल जाइत छल, हुनकर कवितासभ अनेकौं स्थानीय लोगसभक प्रभावित केलक आओर हुनकर अनुसरण लगातार बढोत्तरी होए लगल्। हुनकर एकटा शिष्य भीम बहादुर बस्नेत पश्चातमें योगमाया के लेल एकटा झोपडी के निर्माण केलक आओर हुनकर कवितासभक संकलन सेहो केलक आओर पश्चातमें हुनका सिक्किमसँ प्रकाशित केलक।

योगमाया अपन पूर्व-तपस्वी जीवनमें जे त्रासदीसभ आओर भेदभावक सामना केलक, ओ नेपाली हिन्दू समाजमें विधमान अन्याय पर हुनका दृष्टिकोण के बहुत हद धरि परिभाषित केलक। हिन्दू आध्यात्मिक दर्शन के अनुयायी आओर उपदेशक होए के बावजूद भी, ओ महसूस केलक कि समय के आसपास पितृसत्तात्मक समाज महिलासभ, निम्न जाति समूहसभ आओर नेपालक मामिलामें निम्न आर्थिक वर्ग के साथ भी भेदभावपूर्ण छल। हुनकर कवितासभ भोजपुर जिला के आसपास के लोगसभ एहन अन्तर्निहित भेदभाव के बारेमें जागरूक करवाक प्रयास केलक, जे पैग संख्यामें स्थानीय लोगसभक साथ गुञ्जैत छल। हुनकर कवितासभक प्रकाशन के पश्चात, दार्जिलिङ्ग आओर काठमाण्डौसँ दूर के लोग हुनकर शिष्य बनए लगल्।

यद्यपि योगमाया के उपदेशसभ अनेकौं वञ्चितसभ आओर राजनीतिक रूपसँ अलग-थलग जनता के आसानीसँ प्रभावित केलक, बस्नेत वंशसँ सम्बन्धित अनेकौं स्थानीय सामन्ती जमीन्दारसभ, साथ ही, काठमाण्डौमें केन्द्रीय प्रशासकसभक नजदिकी स्थानीय लोगसभ तपस्वी के मानए लगल आओर हुनकर अनुयायीसभ के हुनकर पितृसत्तात्मक विशेषाधिकार आओर वीभत्सता के लेल खतरा मानल गेल। हुनकर विरोध करनाए। अन्ततः, हुनकर सक्रियता आओर लोकप्रियता क्रूर राणा शासन के प्रशासकसभक ध्यान आकर्षित केलक।



                                     

6. राज्यके सँगे सम्पर्क १९३०-१९३६

योगमाया के माननाए छल​ कि प्रशासन बहुत भ्रष्ट भऽ गेछल आओर ओ धर्मक पालन नै करै के बावजूद भी आम लोगसभक दुख-दर्द के जोडएत छल, जनता के प्रचार के बावजूद भी ओ हिन्दू धार्मिक संहिताक पालन केलक। ओ नौकरशाहसभक सेहो खुलि के आलोचना केलक जे भ्रष्टाचारीसँ आगा बढि रहैत छल आओर अपन कवितासभक माध्यमसँ लोगसभक मूल अधिकारसभसँ सेहो वञ्चित करि रहल् छल। अपन विचारसभक बढावा देनाए आओर प्रचार करवाक साथ-साथ काठमाण्डौमें प्रशासकसभक हुनका भेदभावपूर्ण आओर भ्रष्ट नीतिसभ के बदलै के लेल एकटा विचार के साथ, योगमाया अपन एक गोटे शिष्य प्रेमनारायण भण्डारी के १९३१ में काठमाण्डौ भेजलक, जे पश्चातमें काठमाण्डौमें जनताद्वारा हरेराम प्रभु के रूपमें लोकप्रिय होए लगल। नेपाल के तत्कालीन प्रधानमन्त्री, जुद्ध शमशेर राणा सेहो भण्डारीसँ भेटवार्ता करै के निर्णय केलक जेकर पश्चात ओ सत्य के पवित्र व्रतक पालन करवाक आश्वासन देलक आओर योगमाया के सन्देश दै के लेल हुनका भेजलक। मुद्दा, व्यवस्थापकसभ अगला चार वर्षमें अपन कोनो भी क्रूर आओर भ्रष्ट तरिकामें सुधार नै केलक। काठमाडौँमें शासकसभक रवैयासँ निराश, योगमाया १९३६ में एक बेर फेर भण्डारी के काठमाण्डौ भेजलक आओर फेर पश्चातमें ओही वर्ष नेता स्वयम् अपन बेटी के साथ काठमाण्डौ आएल। जुद्धशमशेरद्वारा हुनका ओही ठाम जाए के दौरान स्वागत कएल गेल, जतय ओ कथन अनुसार पूछलक जे ओ की चाहैत अछि आओर जवाबमें योगमाया सत्य आओर न्याय के पवित्र आदेश के भिडन्त के जवाब देलक नेपालीमें: सत्य धर्मको आचार। प्रधानमन्त्री हुनका फेरसँ आश्वासन देलक, मुद्दा हुनकर समूह के अपेक्षा अनुरूप कोनो ठोस सुधार लागू नै केलक। फेर, काठमाण्डौ उपत्यका छोडि सँ पहिने, योगमाया प्रधानमन्त्री के २४-बुँदागत अपिल सौंपलक जाहिमें ओ आओर हुनकर अनुयायीसभ देशमें सुधारसभ के देखवाक लेल चाहैत छल। ई जुद्शधमशेर आओर हुनकर अनुयायीसभ के चिन्तित केलक, जे योगमाया के अपन राजनीतिक प्रतिष्ठान के लेल खतरा के रूपमें देखए लगल आओर एही लेल ओ वर्ष हुनका भोजपुर फिर्ता भेजए के लेल विशेष तैयारी कएल गेल।



                                     

7. राज्यके सँगे असन्तोष आओर चिता पर सामूहिक आत्महत्याक खतरा १९३६-१९३९

१९३० के दशक के उत्तरार्धमें राणा शासन के विरुद्ध असन्तोष बढि लगल छल, जे मुख्य रूपसँ भारतमें स्वतन्त्रता आन्दोलनसँ प्रभावित छल। प्रतिक्रिया के रूपमें, तत्कालीन सरकार असन्तुष्टसभ के विरुद्ध अधिक क्रूर तरिकासभ उपयोग करवाक सहारा लेलक। योगमाया आओर हुनकर अनुयायीसभद्वारा माँगल गेल सुधारसभ के राज्यद्वारा बेर-बेर अनदेखा कएल गेल आओर हुनकर समूहके गतिविधिसभ पर लगातार नजर रखल जाऽ रहल् छल। १९३५ में, योगमाया भ्रष्ट आओर क्रूर प्रशासन के सार्वजनिक रूपसँ विरोध केनाए शुरू केलक। ओ घोषणा केलक जे ई नेपाली समाजक पकडमें आएल अन्याय, अन्धविश्वास आओर भ्रष्ट प्रथासभके नष्ट करिके एकटा नवका युग के स्थापनाक समय छी। ओ आगा घोषित केलक जे ओ बदलैत युगमें नै उलझवाक चाहैत छल कियाकि ओ पहिनेसँ ही मुक्ति के समीपमें छल आओर ओ जल्द ही भगवान के नाम पर जल्द ही बलिदान करवाक जाऽ रहल् छल।

जुद्ध शमसेर अपन आश्वासनसभ के पूरा नै करवाक बहानासभसँ, योगमाया अग्नि समाधि नामक एकटा अनुष्ठानमें २४० इच्छाधारी शिष्यसभक साथ एकटा विशाल चिता पर बैठि के स्वयम् के बलिदान करवाक योजना बनौलक आओर एही प्रकार अपन अनुयायीसभ के साधारण लोगसभसँ एकटा सार्वजनिक अपिल करवाक लेल आज्ञा देलक। कार्तिक शुक्ल पूर्णिमामें अपन समूह के कोनो भी प्रकारक भिक्षा दैत सकैत छल। ओ धनकुटा जिला के तत्कालीन मुख्य प्रशासक माधव शमशेर आओर जुद्ध शुमसर के सेहो व्यक्तिगत अपिल भेजलक।

व्यवस्थापकसभ हुनकर अपील पर फेरसँ ध्यान नै देलक, योगमाया १२ नोभेम्बर, १९३८ में अपन बलिदानक तिथि निर्धारित केलक आओर सार्वजनिक रूपसँ ओ ओकर तैयारी शुरू करि देलक।

                                     

8. राज्यद्वारा हस्तक्षेप आओर हुनकर अनुयायीसभक गिरफ्तारी १९३९-१९४१

सामूहिक बलिदान होए के आशंका के कारण, यदि सामूहिक बलिदान के अनुमति नै देल गेल तँ, जुद्ध शूमसर ११ नोभेम्बरमें लगभग ५०० सुरक्षाकर्मीसभ के कार्यक्रम स्थल पर तैनाथ करिके कार्यक्रममें बाधा करि के आदेश देलक, जेकर पश्चात धनकुटामें ११ पुरुष शिष्यसभ के जेलमें देल गेल, जखन कि अधिकांश महिला प्रतिभागी भोजपुरस्थित राधाकृष्ण मन्दिरमें योगमाया आओर नयनकला सहित बाधित अग्नि समाधि अनुष्ठान के बन्द रखल गेल छल। प्रशासकसभ तीन महिना के पश्चात महिला सदस्यसभ के नजरबन्दीसँ रिहा करि देलक, जखन कि अधिकांश पुरुष अनुयायीसभ के तीन वरिष के पश्चात अप्रैल १९४१ में जेलसँ रिहा करि देल गेल।

                                     

9. सामूहिक आत्महत्या जल समाधि १९४१

अपन सभ शिष्यसभक रिहाई के पश्चात योगमाया अपन आत्म-त्याग के योजनासभ के जारी रखवाक निर्णय केलक, मुद्दा एही बेर ओ योजनासभ के एकटा समूहमें गुप्त रखवाक आदेश देलक। ओ ५ जुलाई, १९४१ में कार्यक्रमक नवका तिथि निर्धारित केलक, जे पवित्र हरिशयनी एकादशी के दिन छल आओर व्यक्तिगत रूपसँ केवल किछ चुनिन्दा शिष्यसभक हि हुनकर साथ शामिल होवाक अनुमति देलक। जल समाधि के लेल धार्मिक अनुष्ठान ४ जुलाई, १९४१ के रातमें शुरू भेल आओर ५ जुलाई के प्रातः लगभग ४ बजे, उग्र अरुण नदी के किनारा पर योगमाया अपन माथ पर अग्निरोधी तेल के लेप के साथ एकटा प्लेट राखि के चट्टान पर चढि के अनुष्ठानिक सामूहिक आत्महत्याक नेतृत्व केलक। योगमाया के पश्चात, हुनकर ६५ शिष्यसभ ओ दिन उत्तराधिकारमें नदी परसँ छलाङ्ग लगौलक आओर अगला दिन हुनकर २ आओर शिष्यसभ नियम के पालन केलक। अन्ततः, घटनासँ कुल मृत्यु संख्या ६८ पहुँच गेल छल।

                                     

10. विरासत

योगमाया आओर हुनकर बेटी नयनकला अनपढ छल। हुनकर कवितासभ हुनकर साक्षर शिष्यसभद्वारा संकलित आओर प्रकाशित केलक। वास्तवमें, योगमाया के हुनकर कविता संग्रहसभक एकटा छोटका सँ भाग मानल जाइत अछि, जेकरा ओ अपन जल समाधि के वर्ष धरि लिखनाए जारी रखलक।

योगमाया पर समाचार आओर सामग्री आओर सामूहिक आत्महत्या के राणा शासनद्वारा १९५१ में उखाडि फेंकल जाए धरि आक्रामक रूपसँ बन्द करि देल गेल छल। मुद्दा, पहिने बहुदलीय लोकतन्त्र युग १९५१-१९६० आओर पञ्चायत काल १९६०-१९९० के दौरान सेहो, योगमाया के उल्लेख्य गतिविधिसभ के बारेमें साधारण रुपसँ राज्यद्वारा हतोत्साहित कएल जाइत छल। फेर, हुनकर शिष्यसभ, जे भोजपुर, खोतङ्ग आओर संखुवासभा के आसपास बिखरि गेल छल, १९९० के दशकमें स्थानीय रूपसँ परम्परा के जारी रखलक। योगमाया के किछ शिष्य, जाहिमें अधिकतर महिलासभ छल, तुम्लिङ्गगटार के मनकामना मन्दिरमें सेहो रहैत छल।

नेपालमें विदेशी आगन्तुकसभक लेल यात्रा प्रतिबन्ध धीरे-धीरे पञ्चायत काल के लगपासमें हटा देल गेल, नेपाल के बाहर के विद्वानसभ सेहो योगमायाक अनुसरण केनाए शुरू करि देलक। १९८० के दशक के बाद, बारबरा निमरी अजिज आओर माइकल हट्ट सहित उल्लेखनीय पश्चिमी विद्वानसभ योगमाया पर आधारित अपन साहित्यिक रचनासभ पर शोध आओर प्रकाशन केलक।

योगमाया पर विषयसभ के समाजशास्त्र, नृविज्ञान आओर महिला अध्ययन सहित नेपालमें विभिन्न विश्वविद्यालयसभमें विशिष्ट सामाजिक विज्ञान आधारित विषयसभमें पाठ्यक्रममें सेहो शामिल कएल गेल अछि।

भोजपुरमें योगमाया न्यौपाने के कर-कुटुम्सबभ आओर स्थानीय लोगसभद्वारा एकटा स्थानीय सङ्गठन सेहो बनाओल गेल अछि, जेकरा योगमाया शक्तिपीठ तपोभूमि वैकुण्ठ विकास संस्थान कहल जाइत अछि, अपन काम आओर गतिविधिसभ के बढावा दैऽ के लेल आओर साथ ही योगमाया अपन तपस्या के दौरान एकटा महत्वपूर्ण समय बितौलक। नेपालेडाँडा आओर दिङ्गला के आसपास के क्षेत्रमें जीवन व्यतित करै लगल।

१६ नोभेम्बर, २०१६ में नेपाल सरकार नेपालके इतिहासमें हुनकर योगदान के मान्यता दैत एकटा हुलाकी टिकट जारी केलक।

नेपाली उपन्यासकार नीलम कार्की निहारिका के हुनकर जीवनी उपन्यास योगमाया के लेल मदन पुरस्कार के २०१८ संस्करणमें शीर्ष पुरस्कारसँ सम्मानित कएल गेल। नेपाल स्थित नाटककार टंक चौलागाई पश्चातमें एकटा थिएटर नाटक बनेवाक लेल पुस्तक के कहानी के अपनौलक, जेकरा शुरूमें जून २०१९ में काठमाण्डौ के शिल्पी थियेटरमें प्रदर्शित कएल गेल छल।



                                     

11. अतिरिक्त पठनपाठन

  • शक्ति योगमाया: बारबरा निमरी अजीज द्वारा रचित नेपालमें एकटा परम्परा त्रिभुवन विश्वविद्यालयक नेपाल आओर एसियाली अध्ययन केन्द्र, १९९३.
  • हेएर टू ए साइलेन्ट सङ्: बारबरा निमरी अजीज द्वारा रचित नेपालक दुइटा विद्रोही महिलासभ टीयू-सीएनएएस। २००१.
  • दिपेश न्यौपानेद्वारा रचित अमर ज्योति योगमाया काठमाण्डौ, २०१८.
  • दिपेश न्यौपानेद्वारा सर्वार्थ योगबानीमें आध्यात्मिकता आओर धार्मिक उत्थान लक्ष्य: अङ्ग्रेजी अध्ययन के एकटा जर्नल। जुलाई २०१२.
  • दिपेश न्यौपानेद्वारा योगमाया के सर्वार्थ योगबानीमें सामाजिक विरोध आओर निर्गुण भक्ति के बीचक संश्लेषण त्रिभुवन विश्वविद्यालय २०१५.

Users also searched:

योगमाया न्यौपाने, नेपालक महिलासभ. योगमाया न्यौपाने,

...
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →